जिला पंचायत के सामान्य सभा मे घटिया बीज सहित कई मुद्दों पर जमकर हुआ हंगामा

तिल्दा नेवरा। जिला पंचायत रायपुर मे शुक्रवार को सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई Iइस मौके पर किसानो को घटिया बीज देने और किसानो के धोखा खाने का मामला गरमाया।  सदस्यो ने बताया की घटिया बीज से किसानो के उम्मीदों पर पानी फिर गया और उनके सामने पछतावे के अलावा कुछ नहीं है।  इस मामले मे सामान्य सभा मे काफी देर तक हँगामा होता रहा।

बैठक जिला पंचायत अध्यक्ष डोमेश्वरी वर्मा की अध्यक्षता मे रेडक्रास भवन मे राखी गई। सबसे पहले घटिया बीज, नकली दवा, प्रदूषण, रेडी टु ईट का मामला उठा।

बताया गया की तिल्दा विकासखंड के किसानो को सरना धान की बीज की जगह, मिलावटी धान का बीज दे दिया गया है, जिससे किसानो की पैदावार मे भारी नुकसान तो हुआ ही है, इसके साथ किसानो को धान बेचने मे भी भारी दिक्कत आ रही है।  वही दूसरी तरफ शासन ने छिड़काव के लिए जिस दवा को प्रतिबंधित कर दिया है, उसी दवा का नाम बदलकर धड़ल्ले से बेचा जा रहा हैI जनप्रतिनिधियों ने आरोप लगाया है कि, एसे दुकानदारो के ऊपर करवाही करने के बजाय अधिकारी चुप बैठे है।

जिला पंचयत सी ई ओ ने इस पर जांच के आदेश दिये, बैठक मे जिला पंचायत सदस्य व कृषि समिति के सभापति राजू शर्मा ने मुद्दा उठाया कि तिलदा विकास खंड के ग्राम कोहका,देवरी और घुलघुल मे ग्रामीण सेवा सहकारी समिति मे सरना धान बीज के नाम पर मिलावटी बीज दे दिया गया था, जबकि अधिकारियों ने प्रमाणित बीज के नाम पर किसानो से 100 रुपए प्रति क्विंटल अधिक वसूल किए है।  इसके बाद भी किसानो से छलकर कर मिलावटी बीज दे दिया गया।  इससे किसानो को 30 प्रतिशत पैदावार कम हुई है और इस धान को बेचने मे काफी परेशानी हो रही है।  राजू शर्मा ने जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही तथा प्रभावित किसानो को मुआवजा देने कि मांग कि है।

कुम्हारी जलाशय कि क्षमता बढ़ाने के मांग : जिला पंचायत सदस्य व कृषि समिति के सभापति राजू शर्मा ने तिलदा विकास खंड स्थित कुम्हारी जलाशय मे जलवर्धन कि क्षमता बढ़ाने के मांग कि, उन्होने बताया कि इस जलाशय से रायपुर और बलौदा बाजार के करीब 45 गावों के किसानो को फसल सींचने के लिए पानी मिलता है, इसलिए इस जलाशय कि क्षमता मे वृद्धि कि जाए, जिससे किसानो को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिल सके।

बिक रही है प्रतिबंधित दवा : जिला पंचायत सदस्य व कृषि समिति के सभापति राजू शर्मा ने बताया कि सरकार द्वारा मोना क्रोटो क्राप (एस एल)42 को प्रतिबंधित कर दिया गया है। लेकिन दवा बेचने वाले इस दवा का नाम बदलकर मोनो धान के नाम से इसे धड़ल्ले से बेच रहे है और अधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं है, जिला पंचायत सभापति ने इस गोरखधंधे मे शामिल लोगो के खिलाफ कार्यवाही करने कि मांग कि है, इस पर जिला पंचायत सी ई ओ गौरव कुमार सिंह ने एसे दुकानदारो का पता लगाकर तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश दिये है। इसके साथ ही सिलतरा, सरोरा, तिल्दा स्थित संभव स्पंज, महिंद्रा स्पंज, हाइ टेक स्पंज , अस्टभुज स्पंज मे मजदूरो को कम मजदूरी दी जा रही है और इसके साथ ही इन कारखानो से प्रदूषण का मुद्दा भी उठाया और कहा कि अधिकारी इसकी जांच नहीं करते साथ ही उन्होने ग्राम छतौद मे स्थित राष्ट्रीय उच्चत्तर महाविद्यालय का शासकीयकरण करने के मांग किया गया।

Related posts

Leave a Comment