घर पर वास्तुदोष दूर करने के लिए लगाएं ये पौधा

 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर कुंडली में सूर्य और मंगल का दोष हो तो घर में गुड़हल का पौधा लगाना चाहिए। यह पौधा सूर्य और मंगल ग्रह से जुड़ा हुआ है। मान्यता है कि मंगल ग्रह को प्रसन्न करने लिए पवनसुत हनुमान को गुड़हल का फूल अर्पित करना लाभदायक होता है। साथ ही सूर्यदेव को जल अर्पित करते समय इसमें गुड़हल का फूल डालकर अध्र्य दें। ऐसे करने से जातक को अत्यंत लाभ होता है और वास्तुदोष भी दूर होते हैं। गुड़हल का पौधा घर में कहीं भी लगा सकते हैं। यह अत्यंत लाभकारी होता है।

औषधीय गुणों से भरपूर गुड़हल का फूल बहुत ही ऊर्जावान माना जाता है। देवी और सूर्यदेव की उपासना में इसका विशेष रूप से प्रयोग होता है। मान्यता है कि नियमित रूप से देवी मां तो गुड़हल का फूल अर्पित करने से शत्रु और विरोधियों से राहत मिलती है। गुड़हल का फूल  डालकर सूर्यदेव को जल अर्पित करने से दीघार्यु और आरोग्य की प्राप्ति होती है।

गुड़हल के फूल में मां दुर्गा का वास माना जाता है।  पुष्प के हरे भाग में बुध और केतू होते हैं। वहीं केसरिया भाग मंगल को दर्शाता है। गुड़हल  के रक्त वर्ण में सूर्य का प्रतिनिधित्व माना गया है। वहीं पुष्प की जहां से उत्पत्ति होती है, वहां गुरु का वास माना गया है। अंकुरण के मध्य में राहू और अंत में शनि मौजूद होते हैं। वहीं पुष्प के बीज भाग में चंद्रमा उपस्थित होता है। वास्तु की दृष्टि से गुड़हल का  फूल बहुत ही शुभ माना जाता है।

घर में गुलदस्ते का लगा गुड़हल का फूल परिवार के सदस्यों के बीच प्यार, अपनेपन और बॉन्ंिडग को दर्शाता है। दांपत्य जीवन में जोश को बनाए रखने के लिए भी गुड़हल का फूल बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। यह आप और आपके पार्टनर के बीच पैशन को दर्शाता है।

Related posts

Leave a Comment