फाइनल मैच के बाद हुए झगड़े के बाद तीन बांग्लादेशी और दो भारतीय खिलाड़ियों को ICC ने सुनाई कड़ी सजा

आवाम दूत न्यूज रायपुर । आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप फाइनल मैच के बाद बांग्लादेशी और भारतीय खिलाड़ियों के बीच हुई झड़प को लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने अपना फैसला सुना दिया है। आईसीसी ने पांच खिलाड़ियों (तीन बांग्लादेशी और दो भारतीय) को फटकार लगाई है। इन पांचों खिलाड़ियों को आईसीसी कोड ऑफ कंडक्ट के लेवल 3 के उल्लंघन के लिए फटकार पड़ी और साथ ही इनके खाते में डिमेरिट प्वॉइंट्स भी जुड़े हैं। बांग्लादेश के मोहम्मद तौहिद ह्रदॉय, शमीम हुसैन और रकीबुल हसन और भारत के आकाश सिंह और रवि बिश्नोई को आईसीसी कोड ऑफ कंडक्ट के आर्टिकल 2.21 का उल्लंघन करते पाया गया।
भारतीय स्पिनर रवि बिश्नोई पर आर्टिकल 2.5 के उल्लंघन का भी चार्ज लगा है। बांग्लादेश ने रविवार (9 फरवरी) को भारत को तीन विकेट से हराकर पहली बार आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया
मैच के बाद बांग्लादेश और भारतीय खिलाड़ियों के बीच झड़प हो गई थी। कहासुनी के बाद कुछ खिलाड़ियों के बीच धक्का मुक्की भी देखने को मिली थी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था और इसके लिए दोनों टीमों के खिलाड़ियों की काफी आलोचना भी हुई। भारतीय कप्तान प्रियम गर्ग ने इस घटना को भद्दा कहा था, जबकि बांग्लादेशी कप्तान अकबर अली ने इसको लेकर टीम की ओर से माफी भी मांगी थी।

आईसीसी जनरल मैनेजर ज्यॉफ एलार्डाइस ने आधिकारिक बयान में कहा, ‘मैच काफी कड़ा था, जैसा कि आप आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप फाइनल से उम्मीद करते हैं, लेकिन कुछ खिलाड़ियों की हरकत ऐसी थी, जिसकी इस खेल में कोई जगह नहीं है। खिलाड़ियों से उम्मीद की जाती है कि वो खुद को अनुशासित रखें। जीतने वाली टीम को बधाई दें और अपनी टीम के साथ जीत का जश्न मनाएं।’

उन्होंने इस बयान में आगे कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे मैच के बाद आईसीसी कोड ऑफ कंडक्ट का चार्ज खिलाड़ियों पर लगे।’ इन सभी पांच खिलाड़ियों ने अपनी गलती स्वीकार की।

जानिए किस खिलाड़ी को मिली क्या सजा

बांग्लादेश के मोहम्मद तौहिद को 10 सस्पेंशन प्वॉइंट्स दिए गए हैं, जो 6 डिमेरिट प्वॉइंट्स के बराबर हैं और उनके रिकॉर्ड में आने वाले दो साल तक रहेंगे।

बांग्लादेश के शमीम हुसैन को आठ सस्पेंशन प्वॉइंटस दिए गए हैं, जो छह डिमेरिट प्वॉइंट्स के बराबर हैं और उनके खाते में भी दो साल तक ये प्वॉइंट्स बने रहेंगे।
बांग्लादेश के रकीबुल हसन को चार सस्पेंशन प्वॉइंट्स दिए गए हैं, जो पांच डिमेरिट प्वॉइंट्स के बराबर हैं और ये भी इनके रिकॉर्ड में दो साल तक बने रहेंगे।

भारत के आकाश सिंह को आठ सस्पेंशन प्वॉइंट्स दिए गए हैं, जो छह डिमेरिट प्वॉइंट्स के बराबर हैं और ये भी इनके रिकॉर्ड में दो साल तक रहेंगे।

भारत के रवि बिश्नोई को पांच सस्पेंशन प्वॉइंट्स दिए गए हैं, जो पांच डिमेरिट प्वॉइंट्स के बराबर हैं। इसके अलावा मैच के दौरान अविषेक दास को आउट करने के बाद आक्रामक जश्न के लिए उनके खाते में दो और डिमेरिट प्वॉइंट्स जुड़ गए। दो साल तक उनके खाते में कुल सात डिमेरिट प्वॉइंट्स बने रहेंगे। एक सस्पेंशन प्वॉइंट का मतलब खिलाड़ी एक वनडे इंटरनेशनल, टी20 इंटरनेशनल, अंडर-19 मैच या ए- टीम इंटरनेशनल मैच में नहीं खेल सकेगा।

Related posts

Leave a Comment